पर्यायवाची

ऐसे शब्द जिनके अर्थ समान हों, पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं।
जैसे–त्रुटि दोष।
जल के पर्यायवाची शब्द हैं पानी, नीर, अंबु, तोय आदि।

अंधकार तिमिर , अँधेरा , तम।
आग अग्नि,अनल,पावक ,दहन,ज्वलन,धूमकेतु,कृशानु ।
अच्छा उचित , शोभन , उपयुक्त , शुभ , सौम्य।
अजेय अजित , अपराजित , अपराजेय।
अतिथि पाहून, आंगतुक , अभ्यागत , मेहमान।
अनुचर नौकर , दास , सेवक , परिचारक।
अनुपम अनूठा , अनोखा , अपूर्व , निराला , अभूतपूर्व।
अन्य पृथक , और , भिन्न ,दूसरा।
अनाज शस्य , अन्न , धान्य।
अरण्य विपिन , वन , कानन , कान्तार , जंगल।
आभूषण विभूषण , भूषण , गहना , अलंकार।
आज्ञा हुक्म , आदेश , निर्देश।
अमृत सुधा,अमिय,पियूष,सोम,मधु,अमी।
असुर दैत्य,दानव,राक्षस,निशाचर,रजनीचर,दनुज।
अश्व वाजि,घोडा,घोटक,रविपुत्र ,हय,तुरंग ।
आम रसाल,आम्र,सौरभ,मादक,अमृतफल,सहुकार ।
अंहकार गर्व,अभिमान,दर्प,मद,घमंड।
आँख लोचन, नयन, नेत्र, चक्षु, दृग, विलोचन, दृष्टि।
आकाश नभ,गगन,अम्बर,व्योम, अनन्त ,आसमान।
आनंद हर्ष,सुख,आमोद,मोद,प्रमोद,उल्लास।
आश्रम कुटी ,विहार,मठ,संघ,अखाडा।
आंसू नेत्रजल,नयनजल,चक्षुजल,अश्रु ।
इंद्र देवराज,सुरेन्द्र ,सुरपति ,अमरेश ,देवेन्द्र ,वासव ,सुरराज ,सुरेश ।
इन्द्राणी इंद्रवधु,शची,पुलोमजा ।
ईश्वर भगवान,परमेश्वर,जगदीश्वर ,विधाता।
इच्छा अभिलाषा,चाह,कामना,लालसा,मनोरथ,आकांक्षा ।
उन्नति प्रगति , विकास , उत्कर्ष , अभ्युदय , उत्थान , वृद्धि।
उत्साह आवेग , जोश , उमंग।
उद्यान बाग़ , कुसुमाकर , वाटिका , उपवन , बगीचा।
ओंठ ओष्ठ,अधर,होठ।
कमल पद्म,पंकज,नीरज,सरोज,जलज,जलजात ।
कल सुन्दर , अगला दिन , मशीन , आराम , श्रेष्ठ।
कपड़ा चीर , ,पट , वसन , अम्बर , वस्त्र।
कनक गेंहू का आटा , स्वर्ण , धतूरा , सोना।
कृषक हलवाहा , किसान , कृषिजीवी , खेतिहर।
कान श्रवण , श्रुतिपट , कर्ण , श्र्वानेंद्रिय।
कोमल नाजुक , नरम , मृदु , सुकुमार , मुलायम।
कोष भंडार , ख़जाना , निधि।
कोयल वनप्रिय , पिक , कोकिला , काक्पाली , वसंतदूत।
किरण मरीचि , कर , अंशु , रश्मि , मयूख।
किनारा कगार , कूल , तट , तीर।
कृपा प्रसाद,करुणा,दया,अनुग्रह।
खल अधम , दुर्जन , दुष्ट , कुटिल , नीच।
गाय गौ,धेनु,सुरभि,भद्रा ,रोहिणी।
गधा गर्दभ ,खर,धूसर ,शीतलावाहन,चक्रीवान।
चरण पद,पग,पाँव, पैर ।
चातक सारन,मेघजीवन ,पपीहा ,स्वातीभक्त ।
किताब पोथी ,ग्रन्थ ,पुस्तक ।
कपड़ा चीर,वसन, पट ,वस्त्र ,अम्बर ,परिधान ।
कामदेव मन्मथ ,मनोज,काम,मार ,कंदर्प,अनंग ,मनसिज ,रतिनाथ ,मीनकेतू.
कुबेर किन्नरपति , किन्नरनरेश ,यक्षराज ,धनाधिप ,धनराज ,धनेश .
किरण ज्योति, प्रभा,रश्मि, दीप्ति, मरीचि ।
किसान कृषक ,भूमिपुत्र ,हलधर ,खेतिहर ,अन्नदाता ।
कृष्ण राधापति ,घनश्याम ,वासुदेव , माधव, मोहन ,केशव ,गोविन्द ,गिरधारी ।
कान कर्ण ,श्रुति ,श्रुतिपटल ।
कल्पवृक्ष कल्पतरु ,देवतरु,कल्पलता ,देववृक्ष ,पारिजात ।
गंगा देवनदी ,मंदाकनी,भगीरथी ,विश्नुपगा, देवपगा ,ध्रुवनंदा ।
गणेश गजानन , गौरीनंदन , गणपति , गणनायक , शंकरसुवन ,लम्बोदर ,महाकाय।
कोयल कोकिला , पिक , काकपाली, बसंतदूत ।
क्रोध रोष , कोप , अमर्ष , कोह , प्रतिघात ।
गज हाथी , हस्ती , मतंग , कूम्भा, मदकल ।
गुरु शिक्षक , बड़ा , भारी , वृहस्पति ।
ग्रीष्म ताप , घाम , निदाघ , गर्मी .
गृह घर , सदन , गेह ,भवन, धाम , निकेतन ,निवास ।
चंद्रमा चन्द्र , शशि , हिमकर , राकेश , रजनीश , निशानाथ , सोम , मयंक , सारंग , सुधाकर , कलानिधि ।
चतुर चालाक , कुशल , पटु , नागर , दक्ष ,प्रवीण .
जल वारि , नीर , तीय ,अम्बु , उदक , पानी ,जीवन , पय, पेय ।
जहाज पोत , जलयान .
जंगल विपिन , कानन , वन, अरण्य, गहन ।
जमुना सूर्यसुता ,कृष्णा, अर्कजा ,रवितनया ,कालिंदी ।
जीभ रसना ,वाणी ,गिरा ,रसज्ञा।
झंडा फरहरा , ध्वज , पताका , निशान ।
झरना प्रताप , उत्स , निर्झर , सोता , श्रोत .
झूठ असत्य , मिथ्या, मृषा, अनृत ।
तन काया , तनु , शरीर , देह , कलेवर ।
तरु विटप, पादप , पेड़ ,द्रुम, वृक्ष ।
तात परम , प्यारा , पूज्य , पिता .
तालाब सरोवर , जलाशय , सर, पुष्कर , पोखरा, जलवान , सरसी ।
तलवार असि,करवाल ,कृपाण,खडग ,शायक,चंद्रहास ।
तीर वाण,सर ,नाराच ,विहंग शिलिमुख ।
तोता सुग्गा ,शुक ,सुआ,कीर ,दाड़िमप्रिय ।
दास सेवक , नौकर , चाकर , परिचारक , अनुचर ।
दरिद्र निर्धन , गरीब , रंक , कंगाल , दीन।
दिन दिवस, याम , दिवा, वार, प्रमान।
दुःख पीड़ा ,कष्ट , व्यथा , वेदना , संताप , शोक , खेद , पीर, लेश ।
दूध दुग्ध , क्षीर , पय ।
दुष्ट पापी , नीच , दुर्जन , अधम , खल , पामर ।
दर्पण शीशा , आरसी , आईना , मुकुर ।
दांत दन्त ,दसन ,रद ।
दुर्गा चंडिका , भवानी , कुमारी , कल्याणी , महागौरी , कालिका , शिवा ।
देवता सुर, देव, अमर , वसु , आदित्य , लेख ।
धनुष धनुही ,धनु ,सारंग ,चाप ,शरासन ।
धन दौलत , संपत्ति , सम्पदा, वित्त ।
धरती पृथ्वी , भू, भूमि , धरणी, वसुंधरा , अचला , मही, रत्नवती , रत्नगर्भा ।
ध्वनि स्वर ,आवाज ,आहट ।
नदी सरिता , तटीना , सरि, सारंग , जयमाला ।
नया नूतन , नव, नवीन , नव्य।
नरक यमलोक ,यमालय ,दुर्गति ,कुम्भीपाक ।
नित्य सदा ,सर्वदा ,सतत ,निरंतर ।
निरादर अपमान ,उपेक्षा ,अवहेलना ,तिरस्कार ,अवज्ञा ।
नाव नौका ,बेडा , तरणी,जलयान ,जलवाहन।
पवन वायु , हवा, समीर , वात , मारुत , अनिल, पवमान ।
पहाड़ पर्वत , गिरी , अचल , नग, भूधर , महीधर ।
पक्षी खग, चिडिया , गगनचर , पखेरू , विहंग , नभचर ।
पानी जल ,नीर ,वारि ,सलिल ,अंबु।
पार्वती उमा,गिरिजा ,गौरी ,शिवा ,भवानी ,अम्बिका ।
पति स्वामी , प्राणाधार , प्राणप्रिय, प्राणेश, आर्यपुत्र।
पत्नी गृहणी , बहु , वनिता , दारा, जोरू ,वामांगिनी ।
पुत्र बेटा , आत्मज, वत्स , तनुज , तनय, नंदन ।
पुत्री बेटी, आत्मजा , तनूजा, सुता , तनया ।
पुष्प फूल , सुमन , कुसुम , मंजरी , प्रसून ।
पृथ्वी धरती ,धरा ,भू ,भूमि ,जमीन,वसुंधरा ,धरणी ।
बादल मेघ, घन , जलधर , जलद, वारिद, नीरद , सारंग ।
बालू रेत , बालुका , सैकत ।
बन्दर वानर , कपि, कपीश, हरि।
बिजली घनप्रिया , इन्द्र्वज्र, चपला , दामिनी , ताडित, विद्युत ।
ब्रह्मा अज ,विधि ,विधाता ,प्रजापति ,निर्माता ,धाता ,चतुरानन ,प्रजाधिप ।
बाण तीर ,शर ,सायक ,शिलीमुख ।
विष जहर , हलाहल , गरल , कालकूट ।
वृक्ष पेड़ , पादप , विटप , तरु , गाछ ।
विष्णु नारायण , दामोदर , पीताम्बर , चक्रपाणी ।
भूषण जेवर , गहना, आभूषण , अलंकार ।
भौरा भ्रमण ,भँवरा,भृंग ,मिलिंद ,सारंग ,मधुप ।
महेश महादेव ,नीलकंठ ,चंद्रशेखर ,गंगाधर ,रूद्र ,शिव ,विश्वनाथ ।
मनुष्य आदमी , नर, मानव, मानुष , मनुज ।
मदिरा शराब , हाला, आसव, मधु, मद।
मोर केक , कलापी, नीलकंठ , नर्तकप्रिय ।
मधु शहद , रसा, शहद, कुसुमासव ।
मृग हिरण, सारंग , कृष्णसार।
मछली मीन , मत्स्य , जलजीवन , शफरी , मकर ।
मूर्ख गँवार,अल्पमति ,अज्ञानी ,अपढ़ ,जड़ ।
मृत्यु देहांत ,मौत , अंत ,स्वर्गवास ,मरण ।
मोक्ष मुक्ति ,परधाम ,निर्वाण , परमपद ,अपवर्ग ।
यमराज धर्मराज ,यम ,अन्तक ,सूर्यपुत्र, दंडधर .
रात रात्रि, रैन , रजनी , निशा , यामिनी , तमी, निशि , यामा।
राजा नृप, भूप, भूपाल , नरेश , महीपति , अवनीपति ।
लक्ष्मी कमला , पद्मा , रमा, हरिप्रिया , श्री , इंदिरा ।
विवाह शादी ,गठबंधन ,परिणय ,व्याह ,पाणिग्रहण ।
समूह गण,झुण्ड ,संघ ,वृन्द ,समुदाय ।
वायु पवन ,अनिल ,समीर, हवा ,वात ।
वस्त्र कपडा , वसन ,अम्बर ,परिधान ,पट ।
विष जहर ,हलाहल ,माहुर ,गरल ,कालकूट ।
साँप सर्प , नाग , विषधर , उरग , पवनासन।
शिव भोलेनाथ ,शम्भू, त्रिलोचन , महादेव, नीलकंठ , शंकर।
सूर्य रवि , सूरज , दिनकर, प्रभाकर, आदीत्य, भास्कर , दिवाकर।
संसार जग, विश्व , जगत , लोक , दुनिया ।
शरीर देह , तनु , काया , कलेवर , अंग , गात ।
सोना स्वर्ण , कंचन, कनक , हेम , कुंदन ।
स्त्री अबला ,नारी ,महिला ,रमणी ,दारा,कान्ता।
सिंह केशरी, शेर, महावीर, नाहर, सारंग , मृगराज ।
सेना वाहिनी ,कटक ,चमू ।
समुद्र सागर, पयोधि, उदधि , पारावार, नदीश ,जलधि ।
हनुमान महावीर ,पवनसुत ,रामदूत ,मारुती ,कपीश ,बजरंगबली ।
हर्ष आनंद ,प्रसन्नता ,प्रमोद ,सुख ,आमोद ।
हाथी गज ,सिंघु ,हस्ती ,नाग ,मतंग,गजेन्द्र ।
शत्रु रिपु , दुश्मन , अमित्र , वैरी ।
हिमालय हिमगिरी , हिमाचल , गिरिराज , पर्वतराज , नगेश।
ह्रदय छाती , वक्ष , वक्षस्थल , हिय , उर ।

एंड कमेंट करें